image

सत्यनारायण पटेल हमारे समय के चर्चित कथाकार हैं जो गहरी नज़र से युगीन विडंबनाओं की पड़ताल करते हुए पाठक से समय में हस्तक्षेप करने की अपील करते हैं। प्रेमचंद-रेणु की परंपरा के सुयोग्य उत्तराधिकारी के रूप में वे ग्रामांचल के दुख-दर्द, सपनों और महत्वाकांक्षाओं के रग-रेशे को भलीभांति पहचानते हैं। भूमंडलीकरण की लहर पर सवार समय ने मूल्यों और प्राथमिकताओं में भरपूर परिवर्तन करते हुए व्यक्ति को जिस अनुपात में स्वार्थांध और असंवेदनशील बनाया है, उसी अनुपात में सत्यनारायण पटेल कथा-ज़मीन पर अधिक से अधिक जुझारु और संघर्षशील होते गए हैं। कहने को 'गांव भीतर गांव' उनका पहला उपन्यास है, लेकिन दलित महिला झब्बू के जरिए जिस गंभीरता और निरासक्त आवेग के साथ उन्होंने व्यक्ति और समाज के पतन और उत्थान की क्रमिक कथा कही है, वह एक साथ राजनीति और व्यवस्था के विघटनशील चरित्र को कठघरे में खींच लाते हैं। : रोहिणी अग्रवाल

लैंग्सटन ह्यूज की कविता



लैंग्सटन ह्यूज (1902-1967) के कृतित्व के प्रति अमेरिकी आलोचकों और प्रकाशकों का उपेक्षापूर्ण रवैया अमेरिकी साहित्य की दुनिया में रंगभेद का प्रतिनिधि उदाहरण है। कविताएँ, कहानियाँ,उपन्यास, नाटक,निबन्ध-ह्यूज ने इन सभी विधाओं में विपुल मात्रा में लिखा और उनका रचना संसार काफ़ी वैविध्यपूर्ण था, पर अँग्रेज़ी के साहित्य संसार में उसका समुचित मूल्याँकन नहीं हुआ। इसका कारण महज़ इतना ही नहीं था कि ह्यूज अश्वेत थे और अश्वेतों के उत्पीड़न के मुखर विरोधी थे। इससे भी अहम कारण यह था कि वह विचारों से वामपंथी थे और इस सच्चाई को उन्होंने कभी छुपाया नहीं । इसका ख़ामियाज़ा उन्हें मैकार्थीकाल में ही नहीं बल्कि उसके बाद भी चुकाना पड़ा। लैंग्सटन ह्यूज जीवन, संघर्ष और सृजन के सहज प्रवाह के कवि है। सादगी और सहज अभिव्यक्ति का सौन्दर्य उनकी कविता की शक्ति है। हिन्दी पाठक उनकी कविताओं से बहुत कम परिचित हैं, क्योंकि वे हिन्दी में छिटपुट और काफ़ी कम अनूदित हुई हैं। ह्यूज कि कविताओं का विषय मुख्य रूप से मेहनतकश आदमी है, चाहे वह किसी भी नस्ल का हो। उनकी कविताओं में अमेरिका की सारी शोषित-पीड़ित और श्रमजीवी जनता की कथा-व्यथा का अनुभव किया जा सकता है। ह्यूज का अमेरिका इन सब लोगों का है- वह मेहनतकशों का अमेरिका है, जो दुनिया में अमन-चैन और बराबरी चाहता है, और तमाम तरह के भेदभाव को मिटा देना चाहता है। ह्यूज की इसी सोच ने उन्हें अन्तरराष्ट्रीय कवि बना दिया और दुनिया-भर के मुक्तिसंघर्षों के लिए वे प्रेरणा के स्त्रोत बन गये।
अभिनव

एक बार फिर अमेरिका वही अमेरिका बने


एक बार फिर अमेरिका वही अमेरिका बने
वही एक सपना जो वह हुआ करता था
नयी दुनिया का अगुवा
एक ठिकाना खोजता
जहाँ ख़ुद भी आज़ादी से रह सके
अमेरिका मेरे लिए कभी यह अमेरिका रहा ही नहीं
एक बार फिर अमेरिका उन स्वप्नदर्शियों का सपना बने
प्यार और मोहब्बत की वही ठोस महान धरती
जहाँ राजा कभी पैदा हुआ ही नहीं
और न आतंककारियों की यह साज़िश
कि किसी एक के शासन में दूसरा प्रताड़ित हो
‘ यह कभी मेरे लिए अमेरिका रहा ही नहीं ’

जी हाँ, मेरी यह धरती ऎसी धरती बने
जहाँ आज़ादी सम्मानित न हो
झूठी देशभक्ति की मालाओं से
जहाँ सबको अवसर मिले
और जीवन मुक्त हो
और जिस हवा में हम साँस लेते हैं
वह सबके लिए एक-सी बहे

‘आज़ाद लोगों की इस धरती’ पर
कभी आज़ादी या बराबरी मुझे नसीब नहीं हुई
बतलाये तो, कौन हैं आप इस अँधेरे में छिपते हुए
और कौन हैं आप सितारों से चेहरा छुपाते हुए

मैं एक ग़रीब गोरा आदमी हूँ अलगाया हुआ
मैं एक नीग्रो हूँ ग़ुलामी का घाव खाया हुआ
मैं एक लाल आदमी हूँ अपनी ही धरती से भगाया हुआ
मैं एक प्रवासी हूँ अपनी उम्मीदों की डोर से बँधा हुआ
और हमें वही पुराना रास्ता मिलता है बेवकूफ़ी का
कि कुत्ता कुत्ते को खाये, कमज़ोर को मज़बूत दबाये

मैं ही वह नौजवान हूँ
ताक़त और उम्मीदों से लबरेज़
मुनाफ़े की, सत्ता की, स्वार्थ की, ज़मीन हथियाने की
सेना लूट लेने की
ज़रूरतें पूरी करने के उपायों को हड़पने की
काम कराने की और मज़दूरी मार जाने की
अपने लालच के लिए सबका मालिक बनने की
ख़्वाहिशों की

मैं ही वह किसान हूँ ज़मीन का गुलाम
मैं वह मज़दूर हूँ मशीन के हाथ बिका हुआ
मैं ही वह नीग्रो हूँ आप सबका नौकर
मैं ही जानता हूँ विनम्र, भूखी, निम्मस्तरीय
उस सपने के बावजूद आज भी भूखी
नेताओ ! आज भी प्रताड़ित
मैं ही वह आदमी हूँ जो कभी बढ़ ही नहीं पाया
सबसे ग़रीब मज़दूर जिसे वर्षों से भुनाया जाता रहा है
फिर भी मैं ही वह हूँ जो देखता रहा
वही पुराना सपना…
पुरानी दुनिया का जब बादशाहों का ग़ुलाम था
और इतना सच्चा सपना
जो आज भी अपने उसी दुस्साहस के साथ
गीत बनकर गूँजता है
हर एक ईंट में .. , में पत्थर
और हर एक हल के फाल में
जिसने अमेरिका की ज़मीन को ऎसा बना दिया है
जैसी आज वह है
सुनो, मैं ही वह आदमी हूँ
जिसने उस शुरुआती दौर में समुद्रों को पार किया था
अपने होने वाली रिहाइश की खोज में
क्योंकि मैं ही वह हूँ
जिसने आयरलैंण्ड के अँधेरे तटों को छोड़ा था
और पोलैण्ड की समतल भूमि को
और इंग्लैण्ड के चरागाहों को
और काले अफ़्रीका के समुद्री किनारों से बिछुड़ा था
‘एक आज़ाद दुनिया’ बनाने के लिए

आज़ाद ..?
किसने कहा आज़ाद..?
मैं तो नहीं
जी हाँ .. मैं तो नहीं
वे लाखों लोग भी नहीं
जो आज भी भीख पर जीते हैं
वे लाखों हड़ताली भी नहीं
जिन्हें गोली मार दी गयी
वे लाखों लोग भी नहीं है
हमें देने के लिए
क्योंकि सारे सपने हमने मिलकर देखे थे
और सारे गीत हमने मिलकर गाये थे
और सारी उम्मीदें हमने मिलकर सजायी थीं
और सारे झण्डे हमने मिलकर फहराये थे
और लाखों लोग हैं
जिनके पास कुछ भी नहीं है आज
सिवा उस सपने के जो अब लगभग मर चुका है
एक बार फिर अमेरिका वही अमेरिका बने
जो कि वह अब तक नहीं बन पाया है
और जो कि उसे बनना ही है
एक ऎसी धरती जहाँ हर कोई आज़ाद हो
जो हमारी धरती हो, एक ग़रीब आदमी की
रेड इण्डियन की, नीग्रो की, मेरी..
अमेरिका को किसने बनवाया..
किसके ख़ून-पसीने ने
किसके विश्वास और दर्द ने
किसके हाथों ने कारख़ानों में
किसके हल ने बरसात में
हमारे उस मज़बूत सपने को
फिर से जगाना होगा
चाहे जैसी भी गाली दो मुझे
ठीक है तुम चाहे जिस गन्दे नाम से मुझे पुकारो
आज़ादी का वह महान इस्पात झुकता नहीं है उनसे
जो लोगों की ज़िन्दगी में
जोंक की तरह चिपके रहते हैं
हमें अपनी धरती वापस लेनी ही होगी….
अमेरिका
जी हाँ… मैं दो टूक बात करता हूँ
अमेरिका कभी मेरे लिए यह अमेरिका रहा ही नहीं
फिर भी मैं क़सम खाता हूँ वह होगा
गिरोहों की लड़ाइयों में हमारी मौत के बावजूद
बलात्कार, घूसखोरी, लूट और झूठ के बावजूद
हम लोग, हम सारे लोग
मुक्त करेंगे इस धरती को
इन खदानों को , इन वनस्पतियों को
नदियों को, पहाड़ों और असीम समतल भूमि को
सबको, इन महान हरित प्रदेशों के सम्पूर्ण विस्तार को
और फिर बनायेंगे अमेरिका को अमेरिका…।
000

अनुवादः रामकृष्ण पाण्डेय
साभारः आव्हान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें