image

सत्यनारायण पटेल हमारे समय के चर्चित कथाकार हैं जो गहरी नज़र से युगीन विडंबनाओं की पड़ताल करते हुए पाठक से समय में हस्तक्षेप करने की अपील करते हैं। प्रेमचंद-रेणु की परंपरा के सुयोग्य उत्तराधिकारी के रूप में वे ग्रामांचल के दुख-दर्द, सपनों और महत्वाकांक्षाओं के रग-रेशे को भलीभांति पहचानते हैं। भूमंडलीकरण की लहर पर सवार समय ने मूल्यों और प्राथमिकताओं में भरपूर परिवर्तन करते हुए व्यक्ति को जिस अनुपात में स्वार्थांध और असंवेदनशील बनाया है, उसी अनुपात में सत्यनारायण पटेल कथा-ज़मीन पर अधिक से अधिक जुझारु और संघर्षशील होते गए हैं। कहने को 'गांव भीतर गांव' उनका पहला उपन्यास है, लेकिन दलित महिला झब्बू के जरिए जिस गंभीरता और निरासक्त आवेग के साथ उन्होंने व्यक्ति और समाज के पतन और उत्थान की क्रमिक कथा कही है, वह एक साथ राजनीति और व्यवस्था के विघटनशील चरित्र को कठघरे में खींच लाते हैं। : रोहिणी अग्रवाल

सुकुमार चौधुरी की कविताएं

बांग्ला से हिन्दी अनुवाद: मीता दास


 
सुकुमार चौधरी 

 
 कविताएँ 



                 भोर 

 हमारे छोटे और मधुर घर के बरामदे में 
 एक वक़्त था जब 
 उस बरामदे में लोटती थी 
 भोर की उजास 
 और गौरैया , मैना आकर फुदकते रहते थे 
माँ स्नान कर भीगी साड़ी पहन 
 पूजा के फूल चुनती 
 कामिन दीदी झाड़ू हाथ में लिए 
 नलघर का रुख करती 
  मोहल्ले की बहु - बेटियों के ढेंकी में 
 पोहा कूटने के शब्द भी एक वक़्त थम जाता  
 मैं सोये हुए ही यह सब देखता 
  देखते - देखते ही कब सो भी जाता 
  मेरे जीवन में सब ओर अंधकार है 
 रात की ही तरह । 



                         

            कामिन दीदी 

 सुबह सवेरे काम पर आने में प्रायः 
कामिन दीदी को  देर हो ही जाती है 
 उसके पैरों में गोखरू की गुठलियाँ और 
 हजारों प्रलेप 
 काफी दूरी तयकर पैदल आकर  
 थकन से चूर उसके बनते बिगड़ते चेहरे ​का स्वेद और 
 जब बरामदे पर बैठ दीदी ऐश के संग 
 बीड़ी सुलगती ,
 बीड़ी का नाम है सुधा 
 और उधर माँ बड़बड़ाती , भला बुरा कहती 
  और उधर दस बजे का भात रांधने में माँ को 
  हमेशा की तरह ही देर हो जाती । 

                             

     


                     चादर 


 गीली  मिटटी की गंध से मेरी नीद उड़ जाती है 
 पानी इस तरह चूता हमारी टूटी छतों से  
 जैसे पानी चलनी से छन रहा हो 
सीलन भरे फर्श के एक कोने में
माँ की गोद  में दुबके चुपचाप बैठे रहते 
मूसलाधार वर्षा होती हर दूसरे दिन 
 ठंडी बयार छू​
जाती हमें 
हमारी छाती को
 माँ कहानियां सुनाती​
 छोड़ आये उन सुनहरे दिनों की ​
 हम भी अवाक् हो सुनते - ताकते 
 थोड़ा​
 गर्वित माँ के मुख की ओर 
कभी अनजाने में माँ की कहानियां 
हो उठती हमारे बदन की गर्म चादर |



   


सोहन कुमार जोशी



                प्रतिदिन 

 चोरों की तरह चोरी किये सामान से मै 
 ले आता था जी  आर के टूटे गेहूं के कण 
 कनकी और बाजरे के टूटे दाने 
 लंगर खाने के सामने की लम्बी कतार 
 छोटे भाई को कड़ी धूप  में खड़ा देखकर
 भीषण जी करता है
 धर दूं उसके नन्हे हाथों में रंगीन मीठी गोलियां ,
सस्ते चाकलेट 
पर खाली जेब में हाथ डाले 
लज्जित होता रहता मै 
 धीमी आग की तरह सुलगता रहता 
अपमान बोध 
शाम को जब माँ हमें टूटे टीन के कटोरों में धर देती 
धुंआ उगलता गरम - गरम गेहूं का  खीर 
और हम चाटते - चाटते 
मै और मेरे भाई-  बहन 
बड़े हो जाते , प्रति दिन , थोड़ा - थोड़ा सा |

                                    



                     भूख 

झुके हुए  गरम छप्पर के नीचे 
सर झुकाकर हम लिफाफे बनाते थे 
लिफाफों का ढेर पहाड़ सा बन जाता 
हम थक जाते 
बीच - बीच में माँ हमें गुड की चाय पिला देती
चाय पीते  - पीते कभी - कभी 
 मेरी आँखें धुंधला जाती 
 मै अपनी भूख की तरह बेअकल 
  बड़ा सा पहाड़ 
 देख पाता आँखों के सामने 
 खाली लिफाफे की तरह 
 पिचकता जा रहा मेरे भाई - बहनों का पेट 
 मेरी माँ कह उठती , अचानक 
 जल्दी -जल्दी हाथ चलाओ बच्चों
 दुकान बंद हो जाएगी ..............

                                          

                 

                     
                   हंडिया 

उठाकर रखे चूल्हे की आंच पर चड - चड करता पकता है 
एक मुट्ठी चांवल 
लुढ़के आंसुओं के दाग सोते हुए भाई की आँखों से
खदबदाते हंडिया को घेर कर बैठे रहते हम कुछ
और माँ के धूसर चहरे की हंसी गायब है 
तष्णा भरी आँखों से हम ताकते रहते 
हमारी आँखों की पलकें नहीं झपकती 
 गरम भात की गंध से उड़ जाती है दोनों आँखों की नींद 
 खदबदाते हंडिया को घेर 
 इस तरह ही कट जाता है मेरा शैशव । 

                            

           

                    
सोहन कुमार जोशी



                 रूमा 


              
 बड़े दिनों बाद मुलाकात हुई रुमा नाम की उस लड़की से 
 मरुन रंग की साड़ी , गाढ़े नीले रंग का कार्डिगन , रक्तिम स्लीपर 
 ढलती शाम की धूप में अनार के फूल की तरह 
 लग रहा था वह मुखड़ा
 उसके उड़ते बालों के झील में खेल रही थी विदा लेते दिन की लालिमा 
 आदि दिगंत जैसी भौहों की संधि पर यह मोहक बिंदी 
 कितने दिनों के बाद छू लेने की इच्छा हुई 
जबकि सैकड़ों आलोकित वर्ष कट जाने के बाद यह चेहरा देख 
 अनेक स्वप्न भरे द्वीप में चक्कर लगाते - लगाते आखिर ख़त्म हुआ 
 अंध पर्यटन 
 फिर भी अंजलि भर उठा ही ली शिल्प कला 
 खुद को भिखारी सा महसूसा और लगा दृष्टि हीन भी हूँ
 जैसे मैंने कुछ देखा ही नहीं इतना रूप इतना अपार
 ऐसा ही अगम्य वह शिल्प मुखड़ा , इतना गंभीर 
जैसे समुद्र पठार इस नीले आँखों में बह गया मेरी बुद्धि भी |


    

          


   
             दिवाकर 

 एक डाकिया आकर बदल सकता था 
  मेरा जीवन 
 जबकि मेरे जीवन में किसी अलौकिक 
 डाकिये की कहानी नहीं है 
जब भी मुझे समय मिलता है मैं उस 
 बिन देखे डाकिये की बात सोचता हूँ 
 उसकी तस्वीर बनता हूँ 
 शीर्ण देह , खाकी पतलून 
 काँधे पर के झोले में न जाने कितने वर्णमय अनुभूतियाँ 
 सुसाइड झील के करीब से वह आएगा 
 साइकल पर सवार 
 और घंटी बज उठेगी टून - टन 
ठण्ड की बयार छेड़ेगी उसके रूखे बालों को 
 कौपी के पन्नो पर कट्ट्स - पट्टस काटता
 कुछ इसी तरह की छवि 
 और अविकल कौपी के पन्नो जैसे 
उठ कर आता है सुबह का अखबार वाल
मैं उसे शीर्ण देख - देख फटा पतलून 
उसके बाद हेड लाइनों पर आँखे फेरते - फेरते 
एक वक़्त कड़वे मुंह से बोल उठता 
क्या तुम्हे एक डाकिया बनने 
की इच्छा नहीं कराती दिवाकर |



       


            आदिम 

 अन्धकार रात और देह की सिहरन में महुआ फूल की बास 
 भरभराई आँखों में बिखरी प्रीत 
 छेड़ा कब देहाती गीत 
दोनों हाथों को दबोच लेने पर गर्म हो उठा श्वास 
 रक्त की तरह उठा है ललकार की तरंग 
नशे में उन्मत्त कर दे ऐसा तुम्हारा चेहरा 
सीने के अन्दर छोऊ नाच एवं मांदल 
 इस तरह रातों में हम दोनों पत्तों में घिरे जमीन पर 
 अंगारे की तरह बिखर जायेंगे 
 लपलपाकर जंगल को ही निगल जाऊंगा 
 नशेड़ी दोनों जायेंगे स्वर्ग आजू बाजू लेटकर


     

सोहन कुमार जोशी

             


           दिन लिपि

 वोट की आग क्रमशःबुझती जाती है ,
चारों तरफ इंदिरा का जय गान 
 क्रमशः सोचने पर मजबूर करता है ठन्डे मनुष्यों को 
 चित्तो {} कुछ प्रिय मनुष्य आकर जीत के उल्लास को पोंछ देते 
 बस स्टॉप पर ही प्रिय {} का शिविर 
 रात के आठ बजे मैं लौट रहा अकेला ही घर  
 ठण्ड का धुआँसा फैला हुआ है चारों ओर 
 पान की गुमटियां एक -एक कर हो रही है बंद 
 राख के ढेर पर कुंडली मार कर बैठा रहता मरियल कुत्ता 
 तुलसी के चौरे के नीचे जलती रूमाँ के घर का म्लान दीपक 
 बहुत दिनों से रूमा को नहीं देखा 
 मरून रंग की साड़ी गाढ़े नीले रंग का कार्डिगन , ताम्बिया बदन 
 रुमा तुम कहाँ चली गई 
 किस घने देवदारु के द्वीप पर बस गई हो जाकर 
 गृहस्थ घर से फूट निकलती रेडिओ का अंतर्नाद 
 स्टेशन वाले मोहल्ले की तरफ तीन आदमी चले जा रहे है कथड़ियाँ लपेटे 
  सिगरेट फैंक मैं भी घुस जाता अपने ठिकाने पर 
  हठात डस्ट बीन से बांग दे उठता किसीका 
  आवारा मुर्गा

{} ... चितरंजन महतो . {} ... प्रिय रंजन दास मुंशी 





                   इंतजार 

खाली बूथों पर बैठा आदमी गप्पों में मशगूल हो उठेगा फिर 
रैली नहीं जुलूस ,
स्लोगन नहीं , झंडा नहीं , प्रचार भी नहीं  
 मनुष्य सिर्फ विगत वोटों के आधार पर 
 आलोचना करेंगे इस बार 
 कोई कहेगा वहां मनुष्य नहीं 
 रुपयों से जीत गया आखिर कार 
कोई कहेगा वहां डर से , कोई कहेगा क्षमता से 
 अमुक पार्टी जीत गई उस जगह से 
 बीड़ी का कश लेता हुआ कोई कह ही उठेगा 
 और हम इंतजार करेंगे 
 खड़े रहेंगे हम अनंत काल तक 
 और एक मनुष्य उठ खड़ा होगा भीड़ से 
 कह उठेगा  वहां से जीत गया है एक आदमी 
 जिसके पास धन नहीं , क्षमता नहीं , पार्टी भी नहीं 
 सिर्फ मुहब्बत छोड़ उसके पास और कोई भी हथियार नहीं  था भी नहीं कभी । 


       

परिचय 

        सुकुमार चौधरी

























अनुवादक: जबलपुर में जन्मी मीता दास जी चर्चित लेखिका है। आप हिन्दी और बांग्ला में समान रूप से रचनाएं लिखती हैं। दोनों भाषाओं में आपकी पुस्तकें प्रकाशित हैं। आप कुशल अनुवादक व संपादक हैं। छत्तीसगढ़ में रहती है।
संपर्क: mita.dasroy@gmail.com

मीता दास







जापानी कवि ज्यून तकामी की कविताएँ

रूसी से अनुवाद: अनिल जनविजय



ज्यून तकामी





कविताएँ 

 पहाड़ पर चढ़ना चाहते हैं सब


पहाड़ पर
चढ़ना चाहते हैं सब
ऊँचे से ऊँचे पहाड़ पर ।

घाटी में
उतरना कोई नहीं चाहता
यह काम दुनिया में किसी को नहीं आता
अपने मन में उतरना किसी को नहीं भाता ।




 जैसे अंगूर में होता है बीज


अंगूर के दाने में जैसे
छिपा होता है बीज़
मेरे मन के भीतर भी वैसे
छिपी है खीज।

खट्टे अंगूर से बनती है
तेज़ मादक शराब
ओ खीज मेरे दिल की
बन जा तू भी ख़ुशी की आब।





 जाड़ा


जाड़े की ठण्ड
इतनी भयानक होती है कि
कि जम जाते हैं हाथ कभी
तो कभी पैर पाला खाते हैं।

और उदासी
भेदती चली जाती है हमेशा
दिल को गहराई तक।




महावीर वर्मा 




हरापन


एक दिन मैंने
अपने घर की खिड़की से
जब बगीचे में झाँका।

ऐसा लगा अचानक
बाँध लिया हो अपनी बाँहों में जैसे
वो हरा वृक्ष बाँका।




जाना-पहचाना रास्ता


शुरू-शुरू में
एक ही रास्ते पर घूमना
बड़ा ऊबाऊ लगता था मुझे।

लेकिन धीरे-धीरे
मैं उसका आदी होता गया
उस रास्ते पर घूमना
मुझे अच्छा लगने लगा
एक नया ही दृश्य मैं देखता
हर दिन
अपने उस परिचित रास्ते पर।

आज सवेरे
उस जनविहीन रास्ते के किनारे
मैंने कुछ घण्टीनुमा फूलों को खिले हुए देखा
मेरे मन में बजने लगी हज़ारों घण्टियाँ अचानक।




 गीत


वह पुराना गीत जो हम गाते थे स्कूल में
बच्चे गा रहे हैं सुरीली आवाज़ में
मेरी आँखों में आँसू उतर आते हैं।

रेडियो पर यह गीत सुनकर
स्मृति में झलकने लगते हैं बच्चों के सफ़ेद चेहरे
जिनके साथ मैं भी कभी गाता था यह गीत।

बच्चे कोशिश कर रहे हैं पलकें न झपकाने की
सुनहरी मछलियों के तरह खोलते हैं अपने छोटे-छोटे मुँह
उनकी पतली सफ़ेद गरदनों पर दिखाई नहीं देता उनका टेंटुआ।

जब छोटे थे हम और गाते थे
साथ-साथ बजाती थी हारमोनियम
लम्बे घाघरे वाली वह टीचर
झण्डारोहण होता था और मिठाई बाँटी जाती थी।

मैं स्मृति में डूबा था
और इस बीच
बच्चों ने शुरू किया नया गीत
जो हमारे उन दिनों में गाया नहीं जाता था।




आकाश से आने वाली आवाज़ें


मेरे सिर के ऊपर से उड़ते हुए
चिड़िया ने
धीमे से कुछ कहा।

"मैं तुम्हारी बात समझ गया, चिड़िया !"
मैंने उत्तर दिया।

पर सच बात तो यह है कि
मैं डूबा था
अपनी ही सोच में
आकाश से आने वाली आवाज़ों पर
बिना कोई ध्यान दिए।





महावीर वर्मा 



जीवन और मौत की सीमारेखा पर


क्या है वहाँ
जीवन और मौत की सीमारेखा पर?

युद्ध के दिनों की बात है यह
घने जंगलों से गुज़र कर मैं
पहुँच गया था वहाँ
बर्मा और थाईलैण्ड की सीमा है जहाँ
वहाँ कुछ भी ऐसा विशेष नहीं था
सीमारेखा का कोई अवशेष नहीं था।

मैं गुज़रा कई बार
भूमध्य रेखा के पार
देखा नहीं वहाँ भी कोई नया संसार
सिर्फ़ समुद्र था विशाल, गहरा नीला अपार।

बर्मा और थाइलैण्ड में थे
सब एक से मनुष्य
वर्षा के बाद आकाश में चमक रहा था इन्द्रधनुष।

हो सकता है वहाँ भी उस मेखा पर
जीवन और मौत की सीमारेखा पर
इन्द्रधनुष हो कोई चमकीला
सात सौ रंगों वाला
हरा-लाल-नीला-पीला-रंगीला।




 अविचल पेड़


बहते समय के पार
समय शाश्वत दिखाई देता है,
बहते बादलों के पार
नीला आकाश।

बादल चलते रहते हैं
आकाश रहता अचल,
हवा चलती रहती है
पेड़ अविचल।





 रचनात्मकता


बादलों को कौन चलाता है?
धकेलता है कौन उन्हें?
हवा के सिवा?
पर हवा को कौन देता है गति?
कोई तो होगा?

कौन है जो चुपचाप पेड़ों को लादता है फलों से?
कौन है जो मुझसे लिखवाता है कविता?
कोई तो होगा?

क्या एक ही है यह 'कोई तो'?
जो फलों से लाद देता है पेड़ों को
और हवा को देता है गति।

गति देने वाले इस 'कोई तो' को,
और फल लादने वाले इस चुप्पा को,
अब महसूस कर रहा हूँ मैं
अपने मन के भीतर गहरे कहीं।


महावीर वर्मा



ठकठकाहट


ठक ! ठक ! ठक !
वैद्य बजाता है उँगलियाँ
मेरी छाती पर
और पूछता है रहस्य मेरी देह का।

ठक ! ठक ! ठक !
मेरी छाती घरघराती है
और बताती है रहस्य मेरे गेह का।

ठक ! ठक ! ठक !
मन होता हूँ
मैं भी खटखटाऊँ किसी का दिल
जो खोल दे अपना मन मेरे लिए।




मुझे सपने में दिखा जलयान


सपने में दिखा मुझे एक जलयान
सफ़ेद था सफ़ेद पूरा वह जलवाहन।
इतनी ख़ूबसूरत थीं उसकी शुभ्र पाँखें
कि ख़ुशी से भर आई थीं मेरी आँखें।।

तभी आ गया वहाँ भयानक तूफ़ान
सपने में डूब रहा था वह जलयान।
अथाह गहरे सागर में डूब गया जो
मेरे सपनों में आता है आज भी वो।।
००





परिचय 
जन्म18 फ़रवरी 1907
निधन17 अगस्त 1965
उपनाम ज्यून तकामी
जन्म स्थान फ़ुकुई, होन्स्यू द्वीप, जापान ।

कुछ प्रमुख कृतियाँ
पेड़ों का स्कूल(1950),घटता वज़न, मौत की अथाह गहराई से (1964),खोया वसंत (1967) तीनों कविता-संग्रह। भूल जाते हैं पुराने दोस्त (1936)उपन्यास।



अनुवादक 



अनिल जनविजय 

अनिल जनविजय
मास्को ,रशिया
+7 916 611 48 64 ( mobile)