image

सत्यनारायण पटेल हमारे समय के चर्चित कथाकार हैं जो गहरी नज़र से युगीन विडंबनाओं की पड़ताल करते हुए पाठक से समय में हस्तक्षेप करने की अपील करते हैं। प्रेमचंद-रेणु की परंपरा के सुयोग्य उत्तराधिकारी के रूप में वे ग्रामांचल के दुख-दर्द, सपनों और महत्वाकांक्षाओं के रग-रेशे को भलीभांति पहचानते हैं। भूमंडलीकरण की लहर पर सवार समय ने मूल्यों और प्राथमिकताओं में भरपूर परिवर्तन करते हुए व्यक्ति को जिस अनुपात में स्वार्थांध और असंवेदनशील बनाया है, उसी अनुपात में सत्यनारायण पटेल कथा-ज़मीन पर अधिक से अधिक जुझारु और संघर्षशील होते गए हैं। कहने को 'गांव भीतर गांव' उनका पहला उपन्यास है, लेकिन दलित महिला झब्बू के जरिए जिस गंभीरता और निरासक्त आवेग के साथ उन्होंने व्यक्ति और समाज के पतन और उत्थान की क्रमिक कथा कही है, वह एक साथ राजनीति और व्यवस्था के विघटनशील चरित्र को कठघरे में खींच लाते हैं। : रोहिणी अग्रवाल

सूर्यास्त के बाद और सुर्योदय के पहले



तुषार

सूर्यास्त के बाद और सूर्योदय के पहले
चाहे कितना ही घनघोर हो अँधेरा
सूर्यास्त के बाद
अमावस ही हो चाहे
कुल जमा वह भी एक दिन का
आधा ही हिस्सा होता है
द्वितियार्ध
सारे घन अँधकार के बावजूद
तमस तो है बस अंत की शुरुआत
उजाले का आगाज़
कापुरुषों के हाथों की बँदूकें
सीने पर वार करने का साहस
नहीं जुटा पाती उनमें
पीठ में बिंधी गोलियों के घावों से
धीरे-धीरे रिसता है रुधिर
प्राणों को बहा ले जाता है
अपने संग तिल-तिल
उत्तरी-खण्ड (नार्थ ब्लॉक) का भेड़िया
खीसें निपोरता
सत्ता मद में मत्त

सीने में छुपाये
अनमोल खनिजों के अंबार
धरती वहाँ
जनती है जंगल
हरित-आखेट औंधे मुँह धूल चाटता
जंगल के बाँस
उनके सीने में उतरते हैं तीर बन कर
धरती से निकला खनिज बन जाता फौलादी तीर की धार
जब तन कर खड़ा होता है
चिंतलनार
दँतेवाड़ा
देता है लुटेरों के दाँत उखाड़

हर बेकार हाथ
उजड़ा खेत
महुए का पेड़
राख की ढेर में तब्दील
हर सुनसान गाँव
हर भूखा पेट
हर कुचली अस्मत
इस जंगल राज में पैदा
बच्चा-बच्चा
बन जाता है ‘आज़ाद’
हर न बिकी क़लम
हर ज़मीरमंद ख़बरची
दस्तख़त में लिखता है नाम- हेमचन्द्र
रोके कब रुकती है भला
पहली किरण भोर की
सूर्योदय से पहले का अंधेरा
छँट जाता है
आततायी का सपना
हो जाता है चूर-चूर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें