image

सत्यनारायण पटेल हमारे समय के चर्चित कथाकार हैं जो गहरी नज़र से युगीन विडंबनाओं की पड़ताल करते हुए पाठक से समय में हस्तक्षेप करने की अपील करते हैं। प्रेमचंद-रेणु की परंपरा के सुयोग्य उत्तराधिकारी के रूप में वे ग्रामांचल के दुख-दर्द, सपनों और महत्वाकांक्षाओं के रग-रेशे को भलीभांति पहचानते हैं। भूमंडलीकरण की लहर पर सवार समय ने मूल्यों और प्राथमिकताओं में भरपूर परिवर्तन करते हुए व्यक्ति को जिस अनुपात में स्वार्थांध और असंवेदनशील बनाया है, उसी अनुपात में सत्यनारायण पटेल कथा-ज़मीन पर अधिक से अधिक जुझारु और संघर्षशील होते गए हैं। कहने को 'गांव भीतर गांव' उनका पहला उपन्यास है, लेकिन दलित महिला झब्बू के जरिए जिस गंभीरता और निरासक्त आवेग के साथ उन्होंने व्यक्ति और समाज के पतन और उत्थान की क्रमिक कथा कही है, वह एक साथ राजनीति और व्यवस्था के विघटनशील चरित्र को कठघरे में खींच लाते हैं। : रोहिणी अग्रवाल

अनुवादित कविताएँ : सर्जिओ इन्फेंते : अनुवाद : रति सक्सेना

साथियो नमस्कार,

साथियों आज प्रस्तुत हैं कुछ अनुवादित कविताएँ कवि सर्जिओ इन्फेंते की जिनका अनुवाद किया है रति सक्सेना जी ने ।

1.पौध-घर 

आसमान में
शैतानी गैसों ने बना ली
अपनी बेहद बेवकूफाना मेहराब
और समय रहते किसी को नहीं मिली खबर?

किसे पता है, आखिर कौन जानता है
कब बजी थी उस समय
गमन-सूचक सीटी।

जल प्लावन और मृत शरीर - निसृत गैसों ने
कोहरे के कफन से
ढक दी हैं सभी मुख्य जगहें,
उष्णकटिबंध, विषुवत,
कुतुबनुमा दर्शित समस्त गुलाबी पटल।

धरती बन गई है एक ममी
जिसकी कामना नहीं करता कोई
जिसे बदल नहीं सकता कोई।

लेकिन यहीं रुको,
देखो इस शून्य में
हमारी सदिच्छाओं से रिसता शाश्वत व्रण,
हमारी नियत का जाया
प्रशंसनीय गलित मांस।

2.नरगिस पुष्प की दूसरी मौत 

मैं सागरी झील की सतह के करीब
खड़ा हूँ।

नजर आती है उसमें
किसी बड़े घपलेबाज की
अप्रत्याशित शक्ल।

अचंभित खड़ा रहता हूँ मैं,
निरंतर उतरता वाष्पित जल
प्रतिबिंबित करता रहता है
मेरी शक्ल,
सूखते, घटते जल में
शेष रह जाते है
सूर्य-विगलित
रोड़ी, शैवाल,
एक सड़ी हुई चिंगत मछली
और घपलेबाज सी मेरी शक्ल,
वही सूर्य जो छेद देता है
ओजोन की परत
किसी स्नेही गिलोटिन सा
सफाई से गिरता है
मेरी गुद्दी पर।
----------------------------------

परिचय:

नाम : सर्जिओ इन्फेंते

जन्म : 1 मई 1947, चिली

भाषा : चिली

विधाएँ : उपन्यास, कविता, आलोचना

मुख्य कृतियाँ

कविता संग्रह : Gray Abysses, On Exiles, Portrait of an Era, The Pariahs’ Love, Day was Dawning, The Leap Waters
उपन्यास : The Flocks of the Cyclops
आलोचना : The Stigma of Falseness

सम्मान:

कोंडोर पुरस्कार 
प्रस्तुति:- बिजूका समूह

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें