image

सत्यनारायण पटेल हमारे समय के चर्चित कथाकार हैं जो गहरी नज़र से युगीन विडंबनाओं की पड़ताल करते हुए पाठक से समय में हस्तक्षेप करने की अपील करते हैं। प्रेमचंद-रेणु की परंपरा के सुयोग्य उत्तराधिकारी के रूप में वे ग्रामांचल के दुख-दर्द, सपनों और महत्वाकांक्षाओं के रग-रेशे को भलीभांति पहचानते हैं। भूमंडलीकरण की लहर पर सवार समय ने मूल्यों और प्राथमिकताओं में भरपूर परिवर्तन करते हुए व्यक्ति को जिस अनुपात में स्वार्थांध और असंवेदनशील बनाया है, उसी अनुपात में सत्यनारायण पटेल कथा-ज़मीन पर अधिक से अधिक जुझारु और संघर्षशील होते गए हैं। कहने को 'गांव भीतर गांव' उनका पहला उपन्यास है, लेकिन दलित महिला झब्बू के जरिए जिस गंभीरता और निरासक्त आवेग के साथ उन्होंने व्यक्ति और समाज के पतन और उत्थान की क्रमिक कथा कही है, वह एक साथ राजनीति और व्यवस्था के विघटनशील चरित्र को कठघरे में खींच लाते हैं। : रोहिणी अग्रवाल

10 जून, 2018


गीता गैरोला की कविताएँ


गीता गैरोला 

भोर का पंछी

भोर का पंछी आँखों को मलता
धीरे से खोलता है पलकें
पंखों से सहलाता है
ओंस से भीगी पृथ्वी को /जिसके अन्दर जनम रही है उसकी रचना
निर्दोष कोमलता से सहलाता  है डैने
नजरें टिकाता  है उस बिंदु पर /जहाँ से सूरज के सुनहरे घोड़े
छलांग लगाने को  तेयार हैं
भोर का पंछी पूरे ब्रह्मांड में फैलाएगा अपने पंखों के नरम रेशे
सतरंगी धूप की  तितलियों के साथ डोलेगा फूल-फूल
पलगायेगा बृंदगांन मंदिरों के शिखरों पर
मस्जिदों की गुम्बदों पर
शगुन के गीत गायेगा
गोधूलि का पहला तारा उगने तक
साँझ की पालकी में बैठ कर लौटेगा नीड़ की ओर
हरी-भरी नस्लों को उगाने
००



अब मेरा  वक़्त जिन्दा  है

आसमानी रंगतें ठिठोली करती हैं
घनेरी रात में चमकता है जादुई चाँद
तनहाई  रहस्यमई अँधेरे कोने में
जुगनू चमकाती हैं
होंठ शैतानी करते इतराते हैं
मेरे हिस्से के गुलमोहर तपती जमीन में
चटक चादर बिछाते हैं
मेरा मौन बीथोवन की सिम्फनी सा थिरकता है
पूरी क़ायनात बुरांस बन जाती है
सगरमाथा मुझे  थपकियाँ देता है
हाँ ये मेरा जिन्दा वक़्त है
००


चिठ्ठियां

सारी चिठ्ठियां गलत पते पर आती रही
दुःख बहते रहे वक़्त वक़्त पर
चिठ्ठियां बिना बांचे रुलाती रही
चिठ्ठियां ख़त्म हो जाती हैं
पते भी बदल ही जाते हैं
शब्द तैरते रहते हैं
एक सदी से दूसरी सदी तक
पते कितने ही गलत हों
और हजारों चिठ्ठियां बिन बांचे खत्म जाएँ
शब्द पुल बन जाते हैं
वक़्त दुःख,और
सदियों के बीच
००



 हवाएँ देखती है

झांकती हैं
मुस्कराती हैं
,बैचेन हैं
दरबदर ,बेआवाज हैं
वो आग के खिलाफ है
००



पहाड़ और मैं

जब तक रहूंगी मै
पहाड़ तो रहेंगे ही
जैसे पहाड़ में रहते हैं,
पेड़,पौधे, पशु ,पक्षी
मिट्टी,पत्थर,आद, पानी और आग
मुझमे रहता है खून,राख, पानी,हड्डियां
नफरत और प्रेम
हम दोनों एक हैं 
एक दूसरे के विरुद्ध
मै पहाड़ को जलाती हूँ,
काटती हूँ,खोदती हूँ
पहाड़ मुझे जलाता है
पहाड़ फिर फिर उग आता है
और मै भी बार बार जन्म लेती हूँ
जब तक काटने,जलाने की रीत रहेगी
पहाड़ और मै 
एक  दूसरे के सामने  खड़े रहेंगे
ना पहाड़ खत्म होंगे ना ही मै
हम दोनों जिन्दा रहने का युद्ध 
एक साथ लड़ेंगे।
००

जहां धरती आसमान से मिलती है

सागर के अकूत पानी की,
उत्ताल तरंगो के पार।
जहाँ धरती आसमान से मिलती है।
नारंगी लालिमा से रंगा सूरज।
शिशुओ सी अठखेलियां करता है।
धरती दर्दीली पीड़ा से मुस्कुराती है।
हंसते रगों में तैरता गोला।
धरती को जब कौंली भरता है
ठीक इसी वक़्त
मैं वज़ू करती हूँ,
सागर के दोनों रंग।
मेरी नमाज़ को प्रेम और द्वन्द के।
नरम वितान में पिरो कर।
थपकियाँ देते हैं।
००



जिन्दगी बनफशा सी 

इस वक़्त जब उम्र फिसलती जा रही है
प्रेम   ले रहा है आकार चुपचाप
मृत्युपाखी के नरम परों के साथ
लीसे की तरह पिघल रहा है प्रेम
वक़्त के धागे रोशनी की चादर बु न रहे हैं
चाँद की किरने सरकते वक़्त में प्रेम राग लिख रही हैं
गुनगुनाती हवाएं पूरी इबादत से
वक़्त के गडरिये को रोके हैं
सूरज अपनी सुनहरी स्याही से
 समूची कायनात में भोर लिख रहा है
यही सही वक़्त है जब प्रेम
 सारी पीडाओं को फटक रहा है
जिन्दगी बनफशा सी महक रही है
००



6 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय / आदरणीया आपके द्वारा 'सृजित' रचना ''लोकतंत्र'' संवाद मंच पर 'सोमवार' ११ जून २०१८ को साप्ताहिक 'सोमवारीय' अंक में लिंक की गई है। आमंत्रण में आपको 'लोकतंत्र' संवाद मंच की ओर से शुभकामनाएं और टिप्पणी दोनों समाहित हैं। अतः आप सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/



    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    निमंत्रण

    विशेष : 'सोमवार' ११ जून २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच अपने साप्ताहिक सोमवारीय अंक के लेखक परिचय श्रृंखला में आपका परिचय आदरणीया शुभा मेहता जी से करवाने जा रहा है। अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    जवाब देंहटाएं
  2. धुव्र भाई

    आप बिजूका से या अन्य ब्लॉग से रचनाएं कापी करके पेस्ट करते रहते हो। यह बात ठीक नहीं। आपको लेखकों से सीधे रचनाएं जुटानी चाहिए। पाठकों के लिए नयी रचनाएं प्रस्तुत करनी चाहिए। एक ही लेखक की एक रचना अनेक ब्लाग पर लगाने का कोई औचित्य नहीं।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय सत्यनारायण जी प्रणाम
      हम आपको विनम्रता पूर्वक अवगत कराते हैं कि हम किसी भी रचना को सीधे अपने ब्लॉग पर नहीं लाते बल्कि उसके लिंक को पाठकों तक पहुँचाते हैं ताकि उक्त लेखक अथवा कवि की रचना तक पाठक स्वयं पहुँच सके और उस लेखक का ब्लॉग प्रसिद्धि पा सके। ब्लॉगों की भीड़ में पाठक अच्छे लेखक के ब्लॉग तक पहुँच सके और उनकी अनमोल रचनाओं का रस्वादन कर सके यही हमारा प्रयास है न कि लेखक के कॉपीराइट का उल्लंघन करना। इसके लिए हम उक्त लेखक की रचना का लिंक देने से पूर्व यह सूचना उस ब्लॉग के स्वामी को भी प्रेषित करते हैं। आपके सुझाव का हम तहेदिल से शुक्रगुजार हैं। सादर

      हटाएं
  3. गीता जी की "पहाड़ और में" , "चिट्ठियां" , कविताएँ अच्छी लगीं ।

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर रचनाएं

    जवाब देंहटाएं
  5. धुव्र भाई

    यह तो बहुत बढ़िया है। आपका हार्दिक शुक्रिया भाई। मेरी भी बिजूका पर यही कोशिश रहती है कि कुछ अच्छे रचनाकारों की रचनाएं प्रकाशित कर सकूं। पाठकों को अच्छी रचनाएं पढ़ा सकूं। पुनः शुक्रिया भाई। अच्छा काम करें हो।

    जवाब देंहटाएं