image

सत्यनारायण पटेल हमारे समय के चर्चित कथाकार हैं जो गहरी नज़र से युगीन विडंबनाओं की पड़ताल करते हुए पाठक से समय में हस्तक्षेप करने की अपील करते हैं। प्रेमचंद-रेणु की परंपरा के सुयोग्य उत्तराधिकारी के रूप में वे ग्रामांचल के दुख-दर्द, सपनों और महत्वाकांक्षाओं के रग-रेशे को भलीभांति पहचानते हैं। भूमंडलीकरण की लहर पर सवार समय ने मूल्यों और प्राथमिकताओं में भरपूर परिवर्तन करते हुए व्यक्ति को जिस अनुपात में स्वार्थांध और असंवेदनशील बनाया है, उसी अनुपात में सत्यनारायण पटेल कथा-ज़मीन पर अधिक से अधिक जुझारु और संघर्षशील होते गए हैं। कहने को 'गांव भीतर गांव' उनका पहला उपन्यास है, लेकिन दलित महिला झब्बू के जरिए जिस गंभीरता और निरासक्त आवेग के साथ उन्होंने व्यक्ति और समाज के पतन और उत्थान की क्रमिक कथा कही है, वह एक साथ राजनीति और व्यवस्था के विघटनशील चरित्र को कठघरे में खींच लाते हैं। : रोहिणी अग्रवाल

26 मई, 2018

 गुमनाम औरत की डायरी के कुछ और इंदराज

कविता कृष्णपल्लवी 

भाग चार

( एक गुमनाम स्त्री की जो डायरी मुझे पिछले साल दिल्ली मेट्रो में मिली थी, उसके कुछ और पन्ने आपके सामने प्रस्तुत हैं )

हमारे समय में प्यार एक जादुई यथार्थवाद है |


*

कितनी रातों की हवाओं में उसके आँसुओं की नमी भरती रही | खिड़कियों से बाहर रिसकर आती उसकी सिसकियों ने कितने हरे पत्तों के ह्रदय विदीर्ण किये | तब कहीं जाकर वह एक बेरहम, दुनियादार, गावदी, कर्तव्यनिष्ठ स्त्री बन सकी |


*

एक स्वप्नहीन समय में भी कुछ लोग स्वप्न देखते पाये गये | उन्हें दूर किसी दंडद्वीप पर निर्वासित कर दिया गया | वहाँ से रोज़ वे लोग अपने सपनों को डोंगियों में रखकर अपने देश की दिशा में तैराते रहे | कुछ सपने रास्ते में तूफ़ानों के शिकार होते रहे | पर जो गंतव्य तक पहुँचते रहे, वे ख़तरनाक ढंग से पूरे देश में फैलते रहे |


*




जोखिम से बचने वाले लोगों ने सपने देखना तो दूर, उनके बारे में सोचना तक छोड़ दिया | वे तमाम सुख-संतोष-आनंद देने वाली चीज़ों, प्रतिष्ठा, ख्याति आदि के बीच जीते रहे | उनके पास खोने के लिए बहुत सारी चीज़ें थीं, पर पाने को कुछ भी नहीं था क्योंकि वे अपने सपने काफ़ी पहले खो चुके थे, और धीरे-धीरे मनुष्यता भी |


*

प्यार

मैं सागर-तट पर, लहरों के एकदम निकट, ताड़-वृक्ष के खोखल से एक डोंगी बनाती हूँ, उसके मुँह पर एक कड़ी ठोंकती हूँ, उसमें रस्सी बाँधती हूँ और फिर डोंगी को खींचकर लहरों से दूर ले जाती हूँ | डोंगी रेत पर गहरा निशान छोड़ जाती है | फिर मैं पूरनमासी तक इंतज़ार करती हूँ | तब समुद्र चिग्घाड़ता हुआ आता है और रेत पर डोंगी के बनाए रास्ते से होकर उसके पास आ जाता है | फिर आश्चर्यजनक तरीके से वह अपने सीमांतों को आगे बढ़ाकर वहीं रह जाता है | अगली अमावस को मैं फिर डोंगी को रेत पर खींचकर पीछे ले जाती हूँ | फिर पूरनमासी को समुद्र डोंगी की बनाई राह से उसतक आ पहुँचता है | इसतरह यह सिलसिला चलता रहता है | इसतरह समुद्र एकदिन पास के जंगल तक पहुँच जायेगा, पेड़ों और लताओं की जड़ों तक | उस दिन मैं अपनी डोंगी लेकर समुद्र में निकल पडूँगी और अपनी मृत्यु की ओर बढ़ती चली जाऊँगी |
(9 अप्रैल,2018)


कविता कृष्णपल्लवी 






गुमनाम औरत की डायरी भाग तीन नीचे लिंक पर पढ़िए 
http://bizooka2009.blogspot.com/2018/05/blog-post_24.html

1 टिप्पणी:

  1. जोखिम से बचने वाले लोगों ने सपने देखना तो दूर, उनके बारे में सोचना तक छोड़ दिया | वे तमाम सुख-संतोष-आनंद देने वाली चीज़ों, प्रतिष्ठा, ख्याति आदि के बीच जीते रहे | उनके पास खोने के लिए बहुत सारी चीज़ें थीं, पर पाने को कुछ भी नहीं था क्योंकि वे अपने सपने काफ़ी पहले खो चुके थे, और धीरे-धीरे मनुष्यता भी |



    अच्छी पंक्तियां

    उत्तर देंहटाएं